भारत में समाचार पत्रों का विकास | Indian Newspaper

भरतीय समाचार पत्र एवं पत्रिकाएं| Indian Newspaper

भारत में प्रिंटिंग प्रेस की स्थापना 1557 में पुर्तगालियों द्वारा गोवा में किया गया। तत्पश्चात ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा 1684 में पहली प्रेस की स्थापना मुंबई में किया गयी। आधुनिक भारतीय प्रेस का जनक विलियम वोल्टास को माना जाता है।
Newspaper
पहला भारतीय समाचार पत्र बंगाल गजट है। इसकी स्थापना 1780 में जेम्स अगस्तस हिकी के द्वारा किया गया। 1782 के पश्चात इसे बंद कर दिया गया तथा 1816 में गंगाधर भट्टाचार्य द्वारा बंगाल गजट को अंग्रेजी में प्रारंभ किया गया।
जेम्स बकिंघम को भारत में स्वतंत्र प्रेस का जनक माना जाता है। इनका प्रमुख समाचार पत्र कलकत्ता जनरल था। बकिंघम ने प्रेस को जनता का प्रतिबिंब बनाया। जबकि भारतीय राष्ट्रीय प्रेस की स्थापना का श्रेय राजा राम मोहन राय को जाता है। इन्होंने 1821 में बंगाली भाषा में सम्वाद कौमुदी और 1822 में फारसी भाषा में मीरात-उल-अखबार निकाला।
जॉन ऐडम्स ने प्रेस पर प्रतिबंध लगाया और 1835-36 में प्रेस पर से प्रतिबंध को चार्ल्स मेटकाफ ने हटाया इस हेतु मेटकॉफ को  'भारतीय प्रेस का मुक्तिदाता' कहा जाता है।
1851 में दादा भाई नौरोजी ने रस्ट गोफ्तर नामक पत्रिका निकाला और 1859-60 में दीनबंधु मित्र द्वारा नील दर्पण नामक नाटक निकाला गया। पत्रकारिता का राजकुमार क्रिस्टोदास पाल को माना जाता है।
हिंदू पेट्रियट का संपादन हरिश्चंद्र मुखर्जी तथा गिरीश चंद्र घोष, इंडियन मिरर का संपादन देवेंद्र नाथ टैगोर और मनमोहन घोष के द्वारा किया गया। आगे चलकर केशव चंद्र सेन ने इसे और आगे बढ़ाया। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस अपने विचारों को इंडियन मिरर के माध्यम से जनता के समक्ष रखती थी। भारतीयों के द्वारा प्रकाशित पहला दैनिक समाचार पत्र इंडियन मिरर है।
1868 में बंगाल भाषा में मोतीलाल घोष तथा सिसिर कुमार घोष द्वारा अमृत बाजार पत्रिका (दैनिक) की शुरुआत की गई। 1878 में लार्ड लिटन ने प्रेस पर प्रतिबंध लगा दिया।
हिंदी में प्रकाशित भारत का पहला समाचार पत्र उदंत मार्तंड है। इसका प्रकाशन कानपुर से जुगल किशोर द्वारा 1826 में किया गया।
भारतेंदु हरिश्चंद्र द्वारा 1867 में बनारस से कवि वचन सुधा और हरीश चंद्र नामक मासिक पत्रिका निकाला गया। 1881 में बाल गंगाधर तिलक द्वारा मुंबई से अंग्रेजी भाषा में मराठा और 1888-89 में मराठी भाषा में केसरी का संपादन किया गया। इसके संपादन में साथ गोपाल गणेश अगरकर ने दिया। आगे चलकर नरसिम्हा चिंतामन केलकर द्वारा महत्वपूर्ण योगदान दिया गया।
1878 में हिंदू का प्रकाशन प्रारंभ हुआ। यह साप्ताहिक था और प्रकाशक वीर राघवाचारी थे। 1881 में यह दैनिक हो गया जबकि द हिंदू (The Hindu) का संपादन जी सुब्रमण्यम द्वारा किया गया।
1903-4 में गांधी जी अफ्रीका से इंडियन ओपिनियन निकाला और 1905 में लंदन से श्यामजी कृष्ण वर्मा ने इंडियन सोशियोलॉजिस्ट निकाला और 1907 में वरिंद्र घोष और भूपेंद्र दत्त द्वारा युगांतर निकाला गया। 1907 में ही ब्रह्म बंधु उपाध्याय द्वारा द्वारा संध्या निकाला गया। 1912 में अबुल कलाम आजाद द्वारा अल-हिलाल निकाला गया जबकि जिन्ना द्वारा 1914 में कामरेड निकाला गया। तारक नाथ द्वारा फ्री हिंदुस्तान कनाडा से निकाला गया। 1915 में एनी बेसेंट ने कॉमनवेल और न्यू इंडिया निकाला। 1919 में गांधी जी ने अहमदाबाद से नवजीवन निकाला और 1933 में येरवदा जेल से हरिजन नामक पत्रिका निकाला।

प्रमुख हिन्दी पत्रिकाएँ :

क्रमांकपत्रिका का नामआरम्भ वर्षस्थानसम्पादक
1उदन्त मार्तंड- साप्ताहिक30 मई 1826कलकत्ताजुगल किशोर
2बंग दूत- साप्ताहिक1829कलकत्ताराजा राम मोहन राय
3प्रजामित्र- साप्ताहिक1834कलकत्ता
4बनारस अख़बार-साप्ताहिक1845बनारसराजा शिव प्रसाद सिंह
5मार्तंड- साप्ताहिक1846कलकत्तामो. नसीरुद्दीन
6सुधाकर- साप्ताहिक1850काशीबाबु तारा मोहन मित्र
7बुद्ध‌‍ि प्रकाश1852आगरामुंशी सदासुखलाल
8प्रजा हितैषी1855आगराराजा लक्ष्मण सिंह
9कवि वचन सुधा- मासिक1868काशीभारतेंदु
10हरिश्चन्द्र मैगजीन- मासिक1873बनारसभारतेंदु
11बाल बोधनी- मासिक1874बनारसभरतेंदु
12काशी पत्रिका- साप्ताहिकअलीगढ़बलदेव प्रसाद
13भारत बंधु- साप्ताहिकअलीगढ़तोता राम
14भारत मित्रकलकत्तारूद्र दत्त
15हिंदी प्रदीप- मासिक1877प्रयागबाल कृष्ण भट्ट
16आनंद कादम्बिनी- मासिक1881मिर्जापुरबदरी नारायण चौधरी
17भारतेंदु1884वृंदावनपं. राधा चरण गोस्वामी
18देवनागरी प्रचारकमेरठ
19प्रयाग समाचारलखनऊदेवकी नंदन त्रिपाठी
20ब्राह्मण- मासिक1883कानपुरप्रताप नारायण मिश्र
21हिन्दूस्तान- दैनिकइंग्लैंडराजा रामपाल सिंह
22इंदु- मासिकलाहौर
23नागरी नीरद- साप्ताहिकमिर्जापुरबदरी नारायण चौधरी
24नागरी प्रचारिणी पत्रिका- त्रैमासिक1896काशीवेणी प्रसाद
25उपन्यास- मासिक1898काशीगोपाल राम गहमरी
26सरस्वती- मासिक1900काशी, बाद में इलाहाबादचिंतामणि घोष/ श्याम सुंदर दास (1902)/ महावीर प्रसाद द्विवेदी (1903)
27सुदर्शन- मासिक1900काशीदेवकीनंदन/माधव
28समालोचक- मासिक1902जयपुरगुलेरी
29अभ्युदय- साप्ताहिकप्रयागमदन मोहन मालवीय
30इंदु- मासिक1909काशीअम्बिका प्रसाद गुप्त
31मर्यादा- मासिक1909प्रयागकृष्ण कान्त मालवीय/संपूर्णानंद/ प्रेमचंद
32प्रताप- साप्ताहिक1913कानपुरगणेश शंकर विद्यार्थी
33चाँद
34प्रभा1913खंडवा, बाद में कानपुरकालू राम, बाद में कानपुर में बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’/माखनलाल चतुर्वेदी
35माधुरी1922लखनऊदुलारे लाल भार्गव/ रूप नारायण पांडेय/ कृष्ण बिहारी मिश्र/ प्रेमचंद(1928-31)
36सुधा- मासिक1929लखनऊदुलारेलाल भार्गव
37कल्याण1925गीता प्रेस- गोरखपुर-
38विशाल भारत- मासिक1928कलकत्ताबनारसीदास चतुर्वेदी
39हंस(1)-1930 ( 2) 1984 "(१)-बनारस (२)-दिल्ली(1)- प्रेमचंद(2)- राजेन्द्र यादव
40आदर्श + मौजीकलकत्ताशिव पूजन सहाय
41साहित्य सन्देश- मासिक1937आगराबाबू गुलाब राय
42मतवाला- साप्ताहिक1923कलकत्तामहादेव प्रसाद सेठ/ शिव पूजन सहाय/ निराला
43जागरण- साप्ताहिक132बनारसशिव पूजन सहाय/ प्रेमचंद(1932)
44भारत- अर्धसप्ताहिकइलाहाबादनंद दुलारे वाजपेयी
45नवजीवन- साप्ताहिक  1921अहमदाबादगाँधी
46देश- साप्ताहिक1920पटनाराजेन्द्र प्रसाद
47कर्मवीर- साप्ताहिक1924जबलपुरमाखनलाल चतुर्वेदी
48कहानी, नई कहानियाँ, उपन्यासभैरव प्रसाद गुप्त
49सैनिकआगराकृष्ण दत्त पालीवाल
50प्रतीक- दृमासिक1947इलाहाबादअज्ञेय
51रूपाभ- मासिक1938पन्त/ नरेंद्र शर्मा
52कल्पना- दृमासिक1949हैदराबादआर्येन्द्र शर्मा
53धर्मयुग- साप्ताहिक1950बम्बईधर्मवीर भारती
54आलोचना- त्रैमासिक1951दिल्लीशिवदान सिंह चौहान/ धर्मवीर भारती/रघुवंश/ साही/ नंददुलारे वाजपेयी/ नामवर सिंह
55नये पत्ते-1953इलाहाबादलक्ष्मी कान्त वर्मा/ रामस्वरूप चतुर्वेदी
56नयी कविता- अर्द्धवार्षिक1954इलाहाबादजगदीश गुप्त, रामस्वरुप चतुर्वेदी
57ज्ञानोदय- मासिक1955कलकत्ताकन्हैया लाल मिश्र
58निकष- साप्ताहिक1956इलाहाबादधर्मवीर भारती/ लक्ष्मीकांत वर्मा
59कृति1958दिल्लीनरेश मेहता
60समालोचक- मासिक 1958आगरारामविलास शर्मा
61पहल- त्रैमासिक1960जयपुरज्ञानरंजन
62क ख ग- त्रैमासिक1963इलाहाबादरघुवंश, लक्ष्मीकांत वर्मा, रामस्वरूप चतुर्वेदी
63दिनमान-साप्ताहिक1965दिल्लीरघुवीर सहाय
641-पूर्वाग्रह- मासिक 2-समास1974भोपालअशोक वाजपेयी
65वर्तमान साहित्य1984इलाहाबादविभूति नारायण राय
66कथादेश1997दिल्लीहरि नारायण
67नया खूनमध्य प्रदेशमुक्तिबोध

Post a Comment

0 Comments