लगान | Rent - Economics - BHARAT GK

22 April 2018

लगान | Rent - Economics

लगन | Rent

लगान सिद्धांत का प्रतिपादन प्रोफेसर रिकार्डो ने किया। रिकार्डो के अनुसार लगान भूमि की मौलिक एवं अविनाशी शक्ति का प्रयोग के लिए दिया जाता है।
वर्कर के अनुसार लगान भूमि के प्रयोग के लिए दिया जाता है।
आधुनिक अर्थशास्त्री वेल्डिंग एवं श्रीमती जॉन रॉबिंसन के अनुसार लगान सिर्फ भूमि से प्राप्त नहीं होता बल्कि अन्य साधन से भी प्राप्त होता है। लगान के तीन प्रकार होते हैं –
1. कुल लगान - भूमि के प्रयोग के बदले जो लगान लिया जाता है उसे कुल लगान कहते हैं।
2. आर्थिक लगान - भूमिपति को भूमि के बदले जो जो पुरुष कर लेते हैं उन्हें आर्थिक लगान कहा जाता है। रिकार्डो ने लगान का प्रयोग आर्थिक लगान से किया है।
3. प्रसंग विद्या लगाना - भूमि पति द्वारा किसानों को समझौता के तहत भूमि का आवंटन कॉन्ट्रैक्ट लगान या प्रसंग विद्या लगान कहलाता है।
रिकार्डो के अनुसार भूमि की उर्वरा शक्ति के भिन्नता के कारण लगान उत्पन्न होता है। रिकार्डो के लगान सिद्धांत की आलोचना जॉन रॉबिंसन ने किया था। रॉबिंसन ने कहा कि लगान का निर्धारण में मांग के साथ-साथ पूर्ति का भी हाथ रहता है लेकिन रिकार्डो ने इसे छोड़ दिया। 

Comments